यूपी गेहूं खरीद ऑनलाइन पंजीकरण करें | UP Gehu Kharid 2024-25, ई-क्रय प्रणाली

UP Gehu Kharid:- उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा गेंहू खरीद ऑनलाइन पंजीकरण पोर्टल लॉन्च किया गया है। खाद्य एंव रसद विभाग यूपी ई क्रय प्रणाली/ ई उपार्जन पोर्टल को विकसित किया गया है। इस पोर्टल की सहायता से किसान अपनी फसलो को राज्य सरकार या सरकारी एजेंसियो को बेच सकेगें। जिससे किसानो को उनकी फसल का उचित समर्थन मूल्य उपलब्ध कराया जाएगा। और न सिर्फ किसानो को लाभ होगा बल्कि समय से उनकी फसल बिक जाने से उनको होने वाली फसल हानि से मुक्ति मिलेगी। इसके लिए पहले किसानो को उत्तर प्रदेश ई क्रय प्रणाली/ई उपार्जन पोर्टल पर अपना पंजीकरण करना होगा। इसके बाद किसान अपनी रबी गेहूं की फसल को न्यूनतम समर्थन मूल्य पर सरकार या सरकारी एजेंसियो को बेच सकेगें। आज हम आपको इस आर्टिकल मे उत्तर प्रदेश गेहूं खरीद ऑनलाइन पंजीकरण से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी देने जा रहे है तो इस आर्टिकल को अन्त तक अवश्य पढ़े।

UP Gehu Kharid

Table of Contents

UP Gehu Kharid 2024

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा किसानो की रबी (गेहूं) की फसल को MSP पर खरीदने के लिए UP Gehu Kharid ऑनलाइन पंजीकरण पोर्टल की शुरूआत की है। खाद्य एंव रशद विभाग द्वारा इस पोर्टल का संचालन किया जाएगा। इस पोर्टल की सहायता से किसान अपनी फसलो को न्यूनतम समर्थन मूल्य पर सरकार या सरकारी एजेंसियो को बेच सकेगें। राज्य सरकार ने इस बार 55 लाख मीट्रिक टन गेहूं किसानो से खरीदने का लक्ष्य निर्धारित किया है। किसानो के सुविधा के लिए उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से मंडियो मे अपनी फसल पंहुचाने के लिए किसानो के लिए टोकन की सुविधा दी गई है। उत्तर प्रदेश सरकार के माध्यम से वर्ष 2023-24 के लिए गेहूं पंजीयन की प्रक्रिया 1 मार्च 2023 से शुरू कर दी गई है किसानो को अपनी फसलो को बेचने के लिए ऑनलाइन पंजीकरण करना होगा।

राज्य के जो कोई भी किसान अपनी फसल को बेचना चाहते है तो उनको खाद्य एंव रशद विभाग की ई क्रय प्रणाली के ई उपार्जन पोर्टल पर जाकर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करना होगा। इसके बाद किसानो को एक टोकन जारी किया जाता है जिससे किसान अगर UP Gehu Kharid केन्द्रो पर स्वंय उपस्थित नही हो सकता है तो वह अपने परिवार के किसी अन्य सदस्य को केन्द्र पर भेज सकते है।

यूपी निःशुल्क बोरिंग योजना

उत्तर प्रदेश गेंहू खरीद 2024 के बारे में जानकारी

आर्टिकलUP Gehu Kharid
पोर्टल का नामई-क्रय प्रणाली ई-उपार्जन पोर्टल
आरम्भ की गईराज्य सरकार द्वारा
सम्बन्धित विभागकृषि विभाग
राज्यउत्तर प्रदेश
वर्ष2024
लाभार्थीराज्य के समस्त किसान
उद्देश्यकिसानो को उनकी फसल का उचित समर्थन मूल्य प्रदान करना।
लाभकिसान अपनी फसल को ऑनलाइन MSP पर सरकार को बेच सकेगें।
पंजीकरण प्रक्रियाऑनलाइन।
ऑफिशियल वेबसाइटhttps://eproc.up.gov.in/

UP Gehu Kharid पोर्टल का उद्देश्य

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा शुरू किये गए UP Gehu Kharid पोर्टल का मुख्य उद्देश्य किसानो को फसल बेचने की सुविधा ऑनलाइन सुविधा उपलब्ध कराना है। ई-क्रेय पोर्टल ऑनलाइन प्रणाली के माध्यम से किसान अपना ऑनलाइन पंजीकरण कर सकते है। और पंजीकरण के बाद अपनी फसल को राज्य सरकार के अधीन रजिस्टर्ड एजेंसियो को न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) पर बेच सकते है। इस पोर्टल की सहायता से किसान अपनी फसलो को समय से बेच सकेगें। और उनकी फसल बर्बाद होने बचेगी। साथ ही किसानो को फसलो की एवरेज राशी भी प्राप्त हो सकेगी। UP Gehu Kharid के तहत फसल बिक जाने के बाद बिक्री की धनराशी सीधे लाभार्थी किसानो के बैंक खाते मे भेजी जाती है।

ई-क्रय प्रणाली क्या है

ई क्रय प्रणाली उत्तर प्रदेश मे किसानो को ऑनलाइन माध्यम से अपनी गेहूं की फसल को आसानी से बेचने की सुविधा देने के लिए लायी गयी है। सरकार ने इस क्रेय प्रणाली के आधार पर ई- उपार्जन पोर्टल को शुरू किया गया है। जिसके जरिए किसानो को अपना ऑनलाइन पंजीकरण करना है। इसके बाद उनको यूपी गेहूं खरीद ऑनलाइन किसान पंजीकरण के सत्यापन या आवेदन के लॉक होने पश्चात टोकन निकालना होगा। इसके बाद इस टोकन मे दिए गए निर्धारित समय और तिथि के दिन अपने स्थानीय क्रय केन्द्र पर जाना होगा।

PM Kisan Status 

UP Gehu Kharid पोर्टल के लाभ

  • ई खरीद पोर्टल के माध्यम से किसानो को एक निश्चित मंडी प्राप्त होगी।
  • इस पोर्टल के माध्यम से किसान समय रहते अपनी फसलो को बेच सकेगें।
  • किसानो के समय की बचत होगी। और अलग अलग मंडी जाकर वापस लोटने की समस्या से मुक्ति मिलेगी।
  • किसानो के साथ गेहूं की खरीद मे पारदर्शिता सुनिश्चित होगी। और किसानो को न्यूनतम समर्थन मूल्य प्राप्त होगा।
  • फसल खरीद के बाद ही किसानो के सीधे बैंक खाते मे गेहूं खरीद की राशी भेज दी जाती है।
  • किसानो को केन्द्रीय मंडी से सीधे जोड़ा जा सकेगा।
  • इस बार गेहूं खरीद के लिए राज्य सरकार द्वारा न्यूनतम समर्थन मूल्य 1925 रूपेय प्रति क्विंटल निर्धारित किया गया है।

उत्तर प्रदेश गेंहू खरीद पोर्टल की विशेषताएं

  • किसानो को अपनी फसल बेचने के लिए सबसे पहले ई क्रय पोर्टल पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कर टोकन प्राप्त करना होगा।
  • इसके बाद की किसान अपनी बारी आने पर मंडी मे फसल ले जा सकेगें। जिससे उनको पहले जाकर इंतेजार नही करना पड़ेगा। जिससे उनके समय की बचत होगी।
  • उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा वर्ष 2021 के लिए प्रदेशभर मे गेहूं की खरीद के लिए 5500 फसल खरीद केन्द्र बनाएं गए है।
  • इस बार सरकार ने 55 लाख मीट्रिक टन गेंहू खरीदने का लक्ष्य निर्धारित किया है।
  • सरकार द्वारा इस बार गेहूं की खरीद के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) 1925 रूपेय प्रति क्विंटल रखा गया है।
  • किसानो को अपनी फसल बेचने के लिए टोकन सिस्टम का प्रयोग किया जा रहा है जिसके तहत किसानो को एक टोकन दिया जाएगा।
  • टोकन के अनुसार जब नम्बर आएगा तभी उनको मंडी मे अपनी फसल लेकर पहुंचना होगा।
  • UP Gehu Kharid का लाभ केवल उन्ही किसानो को दिया जाएगा। जो अपनी गेहूं की फसल को बेचना चाहते है।

UP Gehu Kharid Registration 2024 के प्रमुख तथ्य

  • किसानो को पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करते समय गेहूं तथा फसल का विवरण देना होगा।
  • किसानो को अपने खेत का विवरण खतौनी, खसरा संख्या एंव गेहूं का रकबा दर्ज करने की आवश्यकता होगी।
  • रजिस्ट्रेशन के समय किसानो को आधार कार्ड, बैंक अकाउंट, राजस्व अभिलेखो इत्यादि का विवरण सही व स्टीक दर्ज करना है।
  • अगर किसान रजिस्ट्रेश ड्राफ्ट को फिर से डाउनलोड करना चाहता है तो तो इसके लिए वह अपना मोबाइल नम्बर दर्ज कर पुन: ड्राफ्ट प्रिंट कर सकता है।
  • अगर रजिस्ट्रेशन मे किसी प्रकार का संशोधन या कुछ एड करने की आवश्यकता है तो यह भी मोबाइल नम्बर दर्ज करके किया जा सकता है।
  • किसानो को उनको मोबाइल नम्बर पर रजिस्ट्रेशन सम्बन्धित जानकारी भेज दी जाएगी।
  • फसल बेचने के बाद किसान केन्द्र प्रभारी से पावती पत्र अवश्य प्राप्त कर ले।

रोज़गार संगम भत्ता योजना

किसान पंजीकरण हेतु मह्त्वपूर्ण जानकारी

  • किसान पंजीकरण के लिए आवेदन करने हेतु उपरोक्त स्टेप 1 से 6 तक का पालन करना अनिवार्य है।
  • ऑनलाइन किसान पंजीकरण करने से पहले स्टेप 1 पंजीकरण प्रारूप डाउनलोड करके प्रिंट कर ले एंव प्रिंट किये गए प्रारूप की जांच करके आवश्यक सूचनाएं भर ले।
  • किसान पंजीकरण मे फसल गेहूं फसल के लिए उपयोग की जाने वाली सभी भूमियो का विवरण देना अनिवार्य है।
  • भूमि विवरण के साथ खतौनी, खाता संख्या, प्लाट/खसरा संख्या, भूमि का रकबा (हेक्टेयर मे) एंव फसल गेहूं का रकबा (हेक्टेयर) मे दर्ज करना अनिवार्य है।
  • आधार कार्ड, बैंक पासबुक एंव राजस्व अभिलेखो का सही विवरण दर्ज करना है।
  • स्टेप 1 पंजीकरण प्रारूप भरने के बाद स्टेप 2 पंजीकरण प्रपत्र के विकल्प से ऑनलाइन आवेदन दर्ज कर ले।
  • पंजीकरण प्रपत्र के बिन्दु 2 मे दी गई सूची से अपनी उस निकट सम्बन्धी का विवरण दे जो आपकी अनुपस्थिति मे आधार प्रमाणीकरण कर गेहूं विक्रय कर सके। बिन्दु 2 वैकल्पिक है।
  • ऑनलाइन आवेदन दर्ज होने पर पंजीकरण संख्या नोट कर ले और स्टेप 3 पंजीकरण ड्राफ्ट से ड्राफ्ट आवेदन पत्र प्रिटं कर ले।
  • पंजीकरण ड्राफ्ट मे दर्ज ड्राफ्ट मे दर्ज सभी बिन्दुओ का पुन: निरिक्षण कर ले।
  • मोबाइल नम्बर दर्ज कर पंजीकरण ड्राफ्ट फिर से प्रिंट किया जा सकता है।
  • आवेदन मे दर्ज सभी बिन्दुओ का निरिक्षण करने के बाद अगर किसी संशोधन की आवश्यकता है तो स्टेप 4 पंजीकरण संशोधन मोबाइल निम्बर आवेदन मे सशोधन किया जा सकता है।
  • अगर आवेदन का निरिक्षण करने के बाद कोई त्रुटी नही पाई जाती है तो स्टेप 5 पंजीकरण लॉक के विकल्प से आवेदन लॉक कर दे।
  • आवेदन लॉक उसमे कोई संशोधन किसी भी स्तर से सम्भव नही होगा।
  • आवेदन लॉक हो जाने के बाद स्टेप 6 पंजीकरण फाइनल प्रिंट के विकल्प से आवेदन का फाइनल प्रिटं सुरक्षित कर लेना है।
  • जब तक आवेदन लॉक नही किया जाता किसान पंजीकरण स्वीकार नही किया जाता है।
  • इस बार OTP आधारित पंजीकरण की व्यवस्था की गई है। जिसके लिए किसान बन्धु पंजीकरण के समय अपना वर्तमान मोबाइल नम्बर ही दर्ज कराएं एसएमएस द्वारा प्रेषित OTP को दर्ज कर पंजीकरण की प्रक्रिया को पूरा किया जा सकता है।
  • 100 क्विंटल से अधिक विक्रय के लिए उपजिलाधिकारी से ऑनलाइन सत्यापन कराया जाएगा। चकबंदी के ग्रामो से बेची जाने वाली मात्रा का शत प्रतिशत सत्यापन किया जाएगा।
  • नाम से भिन्नता की स्थिति मे उपजिलाधिकारी द्वारा ऑनलाइन सत्यापन किया जाएगा।
  • किसान अपना आधार कार्ड संख्या, आधार मे अंकित अपना नाम, व लिंग ठीक प्रकार से दर्ज करें।
  • किसान अपना CBS बैंक खाता खुलवाएं तथा बैंक खाता व IFSC कोड दर्ज करने पर विशेष ध्यान रखें।
  • PFMS के माध्यम से तत्वरित भुगतान सुनिश्चित हो सके। इसके लिए किसान से अपील है कि वह अपने एकल बैंक खाते का नम्बर ही पंजीकरण के समय दर्ज करें।
  • जो किसान खरीफ विपडन वर्ष 2020-21 मे धान खरीद हेतु पंजीकरण करा चुके है उनको गेहूं विक्रय के लिए पुन: पंजीकरण कराने की आवश्यकता नही है।
  • संशोदन कर या बिना संशोधन के पुन: लॉक कराना होगा।
  • फसल विक्रय के समय पंजीकरण प्रपत्र के साथ कम्प्यूटराइज़ड खतौनी, फोटो युक्त पहचान पत्र, बैंक की पास बुक के प्रथम पृष्ठ की छायाप्रति एंव आधार कार्ड साथ ले जाएं
  • गेहूं विक्रय के समय किसान अपना पंजीकरण प्रपत्र अवश्य साथ लेकर जाएं। पंजीकरण प्रपत्र मे यह देख ले कि उनके विक्रय की मात्रा 100 क्विंटल से अधिक होने पर नाम का गलत होने या चकबंदी ग्राम होने पर उक्त जिलाधिकारी से सत्यापन हो गया। साथ ही पंजीकरण मे PFMS से बैंक खाता सत्यापित हो चुका है।
  • फसल विक्रय के बाद केन्द्र प्रभारी से पावती पत्र अवश्य प्राप्त करें।

UP Gehu Kharid के लिए पात्रता

  • UP Gehu Kharid पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करने के लिए किसान उत्तर प्रदेश राज्य का मूल निवासी होना चाहिए।
  • किसान का CBS (कौर बैंकिंग सोल्वयूश) बैंक खाता होना चाहिए।
  • आवदेक एक किसान होना चाहिए।
  • केवल वही किसान इस पोर्टल पर पंजीकरण कर सकते है जिनको मंडीभाव के अनुसार अपनी फसल बैचनी है।
  • आवेदक का बैंक खाता आधार कार्ड मोबाइल नम्बर से लिंक होना चाहिए।

मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना

आवश्यक दस्तावेज़

  • आधार कार्ड
  • बैंक पासबुक।
  • मोबाइल नम्बर।
  • पासपोर्ट साइज़ फोटो।
  • अपने खेत की राजस्व अभिलेख से सम्बन्धित जानकारी।
  • किसानो के पास अपनी जमीन से सम्बन्धित जानकारी जैसे- खसरा, खतौनी संख्या, जमीन का रकबा तथा जितनी जमीन पर गेहूं की खेती की गई है उसकी जानकारी होना आवश्यक है।

उत्तर प्रदेश गेहूं खरीद के अंतर्गत ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कैसे करें

  • सबसे पहले आपको उत्तर प्रदेश ई-क्रय प्रणाली की Official Website पर जाना है।
  • इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुलेगा।
उत्तर प्रदेश गेहूं खरीद के अंतर्गत ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कैसे करें
  • होम पेज पर आपको गेहूं खरीद हेतु किसान पंजीकरण का विकल्प मिलेगा आपको इस पर क्लिक करना है।
  • इसके बाद आपके सामने एक नया पेज खुल जाएगा।
  • इस पेज पर आपको अपना 6 स्टेप का रजिस्ट्रेशन पूरा करना है।
  • सबसे पहले आपको पंजीकरण पपत्र के विकल्प पर क्लिक करना है।
  • क्लिक करते ही आपके सामने किसान रजिस्ट्रेशन फॉर्म खुल जाएगा।
  • यहां सबसे पहले आपको अपना मोबाइल नम्बर और दिया गया कैप्चा कोड दर्ज कर के आगें बढ़े के विकल्प पर क्लिक करना है।
उत्तर प्रदेश गेहूं खरीद के अंतर्गत ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कैसे करें
  • इसके बाद आपके सामने एक रजिस्ट्रेशन फॉर्म खुलकर आएगा।
  • जिसमे आपको अपनी सभी जानकारी दर्ज करनी है।
  • इस फॉर्म मे आपको अपना नाम, पता, मोबाइल नम्बर, आधार नम्बर, पिता का नाम, जनपद, तहसील इत्यादि सम्पूर्ण जानकारी दर्ज करनी है।
  • सभी जानकारी दर्ज करने के बाद आपको सबमिट के विकल्प पर क्लिक कर देना है।
  • इस प्रकार आप ई-उपार्जन पोर्टल पर अपना पंजीकरण कर सकेगें।

पंजीकरण प्रारूप

  • पंजीकरण प्रारूप देखकर आप गेहूं की फसल बेचने के लिए आवेदन फॉर्म देख सकते है
  • जिसके माध्यम से आप आसानी से अपना पंजीकरण फॉर्म भर पाएगें।
  • सबसे पहले आपको ई खरीद पोर्टल की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है।
  • वेबसाइट का होम पेज आपके सामने खुलेगा।
  • होम पेज पर आपको गेहूं खरीद हेतु किसान पंजीकरण के विकल्प पर क्लिक करना है।
  • क्लिक करते ही आपके सामने एक नया पेज खुल जाएगा।
  • इस पेज पर आपको पंजीकरण प्रारूप के विकल्प पर क्लिक करना है।
पंजीकरण प्रारूप
  • इसके बाद अगले पेज पर आपके सामने रजिस्ट्रेशन फॉर्म का फॉर्मेट पीडीएफ दिखाई देगा।
  • जिसे आप देख सकते है और डाउनलोड भी कर सकते है।

यूपी किसान पंजीकरण संशोधन/ड्राफ्ट

  • अगर आपने गेहूं खरीद के लिए किये गए आवेदन फॉर्म मे कोई गलती कर देते है या फिर इसमे कोई सुधार करना चाहते है तो आपको पंजीकरण संशोधन के विकल्प का उपयोग कर सकते है।
  • इसके लिए आपको पंजीकरण संशोधन के विकल्प पर क्लिक करना है।
  • क्लिक करते ही आपके सामने एक नया पजे खुल जाएगा।
यूपी किसान पंजीकरण संशोधन/ड्राफ्ट
  • इस पेज पर आपको अपना मोबाइल नम्बर और दिया गया कैप्चा कोड दर्ज करना है।
  • इसके बाद आपको आगें बढ़े के विकल्प पर क्लिक करना है।
  • अब आपके सामने पुन: किसान पंजीकरण संशोधन प्रपत्र खुलकर आ जाएगा।
  • जिसमे आप जो भी संशोधन करना चाहते है उसमे सुधार कर सकते है।
  • सभी संशोदन करने के बाद आपको अपने आवेदन फॉर्म को सबमिट कर देना है।
  • इस प्रकार आप अपने पंजीकरण मे संशोधन कर सकेगें।

यूपी किसान पंजीकरण फॉर्म प्रिंट करने की प्रक्रिया

  • पंजीकरण फॉर्म प्रिंट करने के लिए आपको सबसे पहले ई- खरीद पोर्टल की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाना है।
  • वेबसाइट के होम पेज पर आपको गेहूं खरीद हेतु किसान पंजीकरण के विकल्प पर क्लिक करना है।
  • इसके बाद आपको किसान पंजीकरण फॉर्म प्रिंट के विकल्प पर क्लिक करना है।
  • उसके बाद पूछी गई सभी जानकारी जैसे किसान पंजीकरण संख्या, मोबाइल नम्बर व कैप्चा कोड दर्ज करना है।
यूपी किसान पंजीकरण फॉर्म प्रिंट करने की प्रक्रिया
  • अब आपको आगें बढ़े के विकल्प पर क्लिक करना है।
  • इसके बाद आपके सामने आपका पंजीकरण फॉर्म खुल जाएगा। जिसे आप प्रिंट कर सकते है।

फसल क्रय हेतु टोकन बनाने की प्रक्रिया

फसल खरीद हेतु ऑनलाइन पंजीकरण फॉर्म भरने के बाद किसानो को अपनी फसल को मंडी किस दिन कितने समय पर लेकर जाना है। इसके लिए उनको टोकन बनाना होगा मंडी टोकन बनाने के बाद ही किसान अपनी फसल को मंडी ले जा सकते है और फसल बैच सकते है।

  • सबसे पहले आपको वेबासाइट के होम पेज पर दिये गये लॉक के उपरांत टोकन बनाएं के विकल्प पर क्लिक करना है।
  • इसके बाद आपको किसान पंजीकरण आईडी या मोबाइल नम्बर और दिया गया कैप्चा कोड दर्ज करके आगें बढ़े के विकल्प पर क्लिक करना है।
  • क्लिक करते ही आपके सामने क्रय हेतु टोकन फॉर्म खुलकर आ जाएगा। साथ ही यह क्रय हेतु टोकन किसान के मोबाइल नम्बर पर भी भेज दिया जाएगा। जिसमे फसल को क्रय के लिए फसल को लेकर जाने का दिन व समय अंकित होगा।

Note:- मंडी जाते समय किसानो को फॉर्म की प्रिंट कॉपी के साथ मोबाइल पर प्राप्त मैसेज़ दोनो को साथ लेकर जाना होगा।

FAQs

UP Gehu Kharid हेतु किसान पंजीकरण क्या है?

UP Gehu Kharid हेतु किसान पंजीकरण खाद्य एंव रसद विभाग द्वारा ई-क्रय प्रणाली/ई-उपार्जन की व्यवस्था है। जिसके माध्यमसे किसान ऑनलाइन खुद का पंजीकरण करके सरकार को या सरकारी एजेंसियो को अपनी फसल बेच सकते है।

क्या ऑनलाइन पंजीकरण करने के लिए कोई शुल्क लगता है?

नहीं, किसान पंजीकरण के लिए कोई शुल्क नही लगता है ऑनलाइन पंजीकरण प्रक्रिया नि:शुल्क है।

इस बार सरकार द्वारा न्यूनतम समर्थन मूल्य कितना निर्धारित किया है?

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा इस बार न्यूनतम समर्थन मूल्य 1975 रूपेय क्विंटल निर्धारित किया गया है।

राज्य सरकार ने गेहूं खरीद हेतु कितने मीट्रिक टन का लक्ष्य रखा है?

प्रदेश सरकार ने गेहूं खरीद हेतु 55 लाख मीट्रिक टन का लक्ष्य तय रखा है।

UP Gehu Kharid Online Registration के लिए ऑफिशियल वेबसाइट क्या है?

गेहूं खरीद ऑनलाइन पंजीकरण हेतु ऑफिशियल वेबसाइट https://eproc.up.gov.in/ है।

Leave a Comment